WHO ने जरी की नयी गाइडलाइन बताया भूलकर भी मास्क पहनते समय न करें ये गलतियां, वरना पछताना पड़ेगा

कोरोना वायरस जैसी महामारी से बचने के लिए मास्क पहनना, सोशल डिस्टेंसिंग, हैंड सैनिटाइजर का नियमित प्रयोग जैसे उपाय सुझाए गए हैं। लेकिन अब जब खराब अर्थव्यवस्था को बल देने के लिए देश को अनलॉक किया जा रहा है तो लोग कोरोना के खतरे से बचे रहने के लिए मास्क को अपने लिए सबसे जरूरी हथियार मान रहे हैं। लेकिन गलत तरीके से पहना गया मास्क वायरस की चपेट में आने की संभावना और व्यक्ति में झूठी सुरक्षा का भ्रम पैदा करता है। यही वजह है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organization) ने एक गाइडलाइन जरी कर लोगों को बताया है कि मास्क पहनते समय वो कौन सी गलतियां कर रहे हैं। आइए जानते हैं।

ढीला मास्क-
मास्क पहनते समय ध्यान रखें कि मास्क व्यक्ति के चेहरे से चिपका हुआ होना चाहिए, ताकि ऊपर, नीचे या किसी भी दिशा से वायरस आपकी नाक और मुंह में प्रवेश न कर सकें। लेकिन कई लोग ढीला मास्क पहन रहे हैं।

नाक के नीचे मास्क पहनना-
व्यक्ति नाक से ही सांस खींचता और छोड़ता है। इसलिए मास्क पहनते समय ध्यान रखें कि आपका नाक और मुंह दोनों ढके होने चाहिए। लेकिन कई लोग सुविधा को देखते हुए मास्क को पहनते समय अपनी नाक बाहर निकाल लेते हैं, जो गलत है।

बात करने के लिए मास्क उतारना-
देखा जा रहा है कि लोग एक दूसरे से बात करते समय मास्क को चेहरे से हटा देते हैं। जो कोरोना के संक्रमण को फैलने में मदद कर सकता है। ऐसा करने से भी बचें।

मास्क को बार-बार छूना-
यह गलती 99 प्रतिशत लोगों को करते हुए देखा गया है। लोग मास्क पहनने के बाद थोड़ी-थोड़ी देर में उसे उतारते और पहनते रहते हैं, जो गलत आदतें हैं। ऐसा करने से आप मास्क पहनने का मकसद पूरा नहीं करते।

मास्क की अदला-बदली
ये गलती एक परिवार में रहने वाले सदस्यों को करते देखा जा रहा है। एक ही परिवार में रहने वाले सदस्य बाहर जाते समय एक-दूसरे से मास्क भी शेयर कर रहे हैं। जो कि गलत आदत है। याद रखें कोरोना वायरस के 50 प्रतिशत से ज्यादा मामलों में व्यक्ति में कोरोना के लक्षण नहीं दिखाई देते हैं, वो बाहर से स्वस्थ नजर आता है। ऐसे में मास्क की अदला-बदली वायरस के फैलने का कारण बन सकती है।

Share this:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *