Ration Card धारकों के लिए जरूरी खबर, जान लें वरना हो होगी 5 साल की सजा

राशन कार्ड भारत सरकार की एक मान्यताप्राप्त सरकारी डॉक्यूमेंट है. राशन कार्ड की सहायता से लोग सरकारी की दुकानों से गेहूं, चावल और दाल बाजार मूल्य से बेहद कम दाम पर खरीद सकते हैं. भारत में आम तौर पर तीन प्रकार से राशन कार्ड बनते हैं.

गरीबी रेखा के ऊपर रहने वाले लोगों को एपीएल (APL), गरीबी रेखा के नीचे रहने वालों के लिए बीपीएल (BPL) और सबसे गरीब परिवारों के लिए अन्‍त्योदय. राज्य सरकारें अपने नागरिकों को राशन कार्ड जारी करती हैं, जो एक पहचान पत्र का भी काम करता है. लेकिन अगर आप गलत डॉक्यूमेंट्स के साथ राशन कार्ड बनाते हैं,

तो आपको जेल और जुर्माना दोनों हो सकता है. भारत सरकार के फूड सिक्योरिरटी एक्ट के तहत अगर आप फर्जी राशन कार्ड बनाते है.

तो आपको पांच साल की सजा और जुर्माने का भी प्रावधान है. इसलिए अगर आप राशन कार्ड बनाते हैं तो सही जानकारी ही खाद्य विभाग को दें. अगर सही जानकारी आप नहीं देते हैं तो आपको पछताना भी पड़ सकता है. भारत सरकार के निर्देश पर राज्य सरकारें अपने जरूरतमंद नागरिकों को सब्सिडी के तहत अनाज उपलब्ध कराती है. इसलिए अगर आप गलत जानकारी दे कर दूसरे नागरिक का हक मारते हैं तो आपको सजा भी हो सकती है.

बता दें कि राशन कार्ड बनवाने के लिए कुछ शर्तों को पूरा करना अनिवार्य होता है, लेकिन लोग गरीबी रेखा से नीचे या अंत्योदय योजना का राशन कार्ड बनवाने के लिए गलत दस्तावेज जमा कर देते हैं. भारत सरकार के फूड सिक्योरिटी एक्ट में फर्जी राशन कार्ड बनवाना एक दंडनीय अपराध है. अगर आप पैसे वाले होकर भी फर्जी राशन कार्ड बनवाने के दोषी पाए जाते हैं तो आपको पांच साल की जेल और जुर्माना देना पड़ सकता है.

Share this:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *