5 ट्रिल्यन डॉलर इकॉनमी के लिए टाटा, अंबानी के साथ मिलकर मोदी तैयार कर रहे मास्टर प्लान

कोरोना संकट के बीच अर्थव्यवस्था में सुधार लाने और 5 ट्रिल्यन डॉलर इकॉनमी का लक्ष्य पूरा करने के लिए मोदी सरकार निवेशकों को लुभाने का लगातार प्रयास कर रही है। इसी कड़ी में रतन टाटा, मुकेश अंबानी, नंदन नीलेकणि और उदय कोटक जैसे इंडस्ट्रियलिस्ट शामिल होंगे।

भारत को 5 ट्रिल्यन डॉलर इकॉनमी बनाने के लिए इसमें विश्व के बड़े-बड़े इंस्टिट्यूशनल इन्वेस्टर्स को बुलाया गया है।

आकार की बात करें तो ये मिलाकर 6 लाख करोड़ डॉलर यानी 420 लाख करोड़ रुपये के फंड को मैनेज करते हैं। यह भारत की इकॉनमी से दो गुना से भी ज्यादा है। बता दे भारत की इकॉनमी का आकार 200 लाख करोड़ रुपये है। इस वीडियो कॉन्फ्रेंस में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास और फाइनैंशल मार्केट रेग्युलेटर के बड़े-बड़े अधिकारी शामिल होंगे।

इससे पहले पीएम मोदी ने दुनिया की दिग्गज तेल एवं गैस कंपनियों के मुख्य कार्यपालक अधिकारियों (सीईओ) के साथ चर्चा की थी। भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा ऊर्जा उपभोक्ता देश है और बढ़ती मांग को पूरा करने के लिये 2030 तक यहां तेल एवं गैस क्षेत्र में 300 अरब डॉलर (21 लाख करोड़) से अधिक निवेश होने का अनुमान है।

Share this:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *