28 साल बाद पाकिस्तान से बचकर लौटे पिता को देखकर रोते-रोते बेहोश हो गई बेटी जाने ये रुला देने बाली खबर दोस्तों

 पाकिस्तान से 28 साल बाद वापस लौटे शमसुद्दीन आखिरकार अपनी सरजमीं कानपुर पहुंच ही गए हैं. जैसे ही शमसुद्दीन अपने घर पहुंचे उनके परिवारजनों और मोहल्ले वालों ने उन्हें फूलों की माला पहनाई और मिलकर स्वागत भी किया. वहीं खुशी से उनकी आंखे नम हुई और रोते हुए उन्होंने अपने साथ पाकिस्तान में होने वाले दुश्मनों के जैसे व्यवहार के बारे में भी बताया.

शमसुद्दीन ने बताया कि, ” पाकिस्तान जाकर मैंने बहुत बड़ी गलती कर दी. अपना देश ही सबसे ज्यादा प्यारा होता है. जो भारतीय पाकिस्तान में रहते हैं, उनके साथ बहुत ही बुरा सलूक होता है. पाकिस्तान में सभी भारतीयों के साथ दुश्मनों के जैसा व्यवहार किया जाता है “. और उन्हें हिन्दुओ के त्योहार तक नहीं मानने देते आपको बता दें दोस्तों वर्ष 1992 में 90 दिन का वीजा लगवाकर कानपुर के रहने वाले शमसुद्दीन अपने एक परिचित व्यक्ति के साथ पाकिस्तान गए थे.

1994 में पाकिस्तान की नागरिकता प्राप्त होने के बाद वह वहीं पर रहने लगे थे. कुछ साल तक वे वहां पर रहे, लेकिन साल 2012 में पाकिस्तान सरकार ने उन पर झूठा जासूसी का आरोप लगाया और उन्हें गिरफ्तार कर लिया. गिरफ्तार करने के बाद पाकिस्तान सरकार ने उन्हें कराची की जेल में बंद कर दिया. तब से अब तक का समय है जब शमशुद्दीन पाकिस्तान की जेल में ही बंद थे। और अब मुश्किल से अपने वतन भारत आए हैं.

Share this:

Leave a Comment