मोदी सरकार के कृषि कानून वापस लेने की पीछे ये थी 3 बड़ी वजह जाने आप भी -

कृषि कानूनों को निरस्त किए जाने के लिए केंद्र सरकार के फैसले की घोषणा के बाद दिल्ली के सीमावर्ती इलाकों के पास किसानों के प्रदर्शन स्थलों पर कई लोगों ने शुक्रवार को सुबह मिठाइयां बांटी। तो आइए जानते हैं कि मोदी सरकार के इस फैसले के पीछे की 3 बड़ी वजह।


पहला उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव
दोस्तों कहा जाता है कि केंद्र की सत्ता का रास्ता उत्तर प्रदेश से ही निकलता है। ऐसे में अगले साल से यूपी में विदानसभा चुनावो की शुरआत होने जा रही हैं और सरकार नहीं चाहती थी की किसान कानूनों के कारन इस पर कोई असर पड़े।

दूसरा देश भर के किसानों में नरेंद्र मोदी सरकार के खिलाफ नाराजगी –
दोस्तों कृषि कानून की वजह से देश भर के किसानों में नरेंद्र मोदी सरकार के खिलाफ नाराजगी पैदा हो गई थी। इन कानूनों के विरोध में देश भर में रैलियां निकाली गईं और किसान महापंचायतों का आयोजन किया गया। इस किसान आंदोलन का असर पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश के साथ-साथ पश्चिम बंगाल, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और तमिलनाडु तक देखा गया। जिसके कारण नरेंद्र मोदी सरकार ने किसान कानूनो को रद्द किया.

और तीसरा कारण अंतरराष्ट्रीय मंचों पर बिगड़ती मोदी सरकार की छवि-
जी हां दोस्तों किसान आंदोलन के कारण अंतरराष्ट्रीय मंचों पर मोदी सरकार की छवि बिगड़ती जा रही थी। कृषि कानूनों के विरोध में ब्रिटेन, अमेरिका और कनाडा जैसे देशों मे भारतीय दूतावास के बाहर प्रदर्शन तक आयोजित किए गए थे।

Share this:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *