होकर रहेगा तीसरा विश्वयुद्ध: तेजी से चल रही है तैयारियां, अमेरिका-भारत समंदर में भेजी सेना. चीन के छूटे पसीने

चीन के दोबारा से भारतीय सीमा में घुसने के बाद आज भारत ने दक्षिण चीन सागर में एक युद्धपोत तैनात कर दिया है। यह वही क्षेत्र है जहां चीन हमेशा भारत के युद्धपोतों का विरोध करता रहा है। वही अब भारतीय नौसेना अंडरवाटर जहाजों, अन्य मानवरहित सिस्टमों और सेंसरों कोजल्द ही चीन सागर तैनात करने की योजना बना रही है। इसके अलावा भारतीय नौसेना जिबूती इलाके के आसपास मौजूद चीनी जहाजों पर भी नजर बनाए रखे हुए है।

भारतीय नौसेना ने कुछ पहली ही अंडमान और निकोबार द्वीप समूह पर युद्धाभ्यास शुरू किया था, तब पहले से ही दो अमेरिकी सुपर एयरक्राफ्ट कैरियर यूएसएस निमित्ज और रोनाल्ड रीगन दक्षिण चीन सागर में युद्धाभ्यास करके चीन को हिन्द महासागर में घेरने का संदेश दे है।

इसके अलावा अब अमेरिकी नौसेना ने अपने विध्वंसक और फ्रिगेट भ चाइना के खिलाफ तैनात कर दिए है। वही दक्षिण चीन सागर में तैनाती के दौरान भारतीय युद्धपोत भी लगातार अमेरिकी जहाजो के साथ संपर्क बनाए हुए है।

भारतीय नौसेना ने युद्धाभ्यास के समय से ही अंडमान और निकोबार द्वीप समूह के पास मलक्का स्ट्रेट्स में चीनी नौसेना की गतिविधि पर नजर रखने के लिए अपने फ्रंटलाइन जहाजों के अलावा कई युद्धपोतों, पेट्रोलिंग एयरक्राफ्ट तैनात कर रखे हैं।

 

दक्षिण चीन सागर में भारतीय नौसेना के युद्धपोत की तैनाती से चीनी नौसेना में बेचैनी का माहौल है। बता दे की कल देर रात तक हुई वार्ता के दौरान चीन ने भारत से दक्षिण चीन सागर में भारतीय युद्धपोत की तैनाती किये जाने का मुद्दा भी उठाया था.

Share this:

Leave a Comment