सरकार ने यूनिवर्सिटी-कॉलेजों को खोलने के लिए जारी की गाइडलाइंस

कोरोना वायरस के कारण देशभर में यूनिवर्सिटीस-कॉलेजों में करीब 7 महीने के लॉकडाउन के बाद विश्वविद्यालयों और कॉलेज को फिर से खोलने के लिए यूजीसी ने नए दिशानिर्देश जारी किए हैं। इसके साथ ही यूजीसी ने साफ कर दिया है कि, संस्थान में कुल छात्रों के 50 फीसदी से अधिक की उपस्थिति ना हो।

यूजीसी ने कहा है कि विश्वविद्यालयों और कॉलेजों में कक्षाएं शुरू करने के बारे में राज्य सरकारें फैसला करेंगी। सभी रिसर्च कोर्सेज के छात्र और साइंस टेक्नोलॉजी कोर्सेज के पोस्ट ग्रेजुएट विद्यार्थियों को कॉलेज आने की अनुमति मिली है।

क्योंकि इनकी संख्या अन्य कोर्सेज के छात्रों से कम होती है। इसके बाद संस्थान के प्रमुख के निर्देशानुसार एकेडमिक और प्लेसमेंट के मकसद से फाइनल ईयर के विद्यार्थियों को भी बुलाया जा सकता है।

विद्यार्थी और स्टाफ को भी सलाह दी जाए कि वह कन्टेनमेंट जोन से ना जाएं। यूजीसी ने कहा है कि ऐसे विद्यार्थी जिनमें कोरोना संक्रमण के लक्षण होंगे, उन्हें कैंपस में आने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए।

वही कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए सोशल डिस्टेंसिंग समेत सभी नियमों का पालन करना अनिवार्य होगा। आपस में छह फीट की दूरी बनाए रखनी होगी। मास्क अनिवार्य होगा।
इसके आलवा अगर विश्वविद्यालय और कॉलेज कन्टेनमेंट जोन से बाहर हैं तो ही उन्हें खोलने की इजाजत दी जा सकती है। कन्टेनमेंट जोन में रहने वाले विद्यार्थियों और शिक्षकों को कॉलेज में प्रवेश करने की अनुमति नहीं होगी।

Share this:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *