कर्जा लेकर चीन की जाल में फंस गया ये देश, ड्रैगन ने यहां कर लिया कब्जा

चीन ने दुनिया के कई देशों को अपने कर्ज के जाल में फंसा रहा है। अब चीन के कर्ज की जाल में नया देश लाओस फंस गया है। लाओस ने चीन से अरबों डॉलर का कर्ज लिया हुआ है। अब चीनी कर्ज न चुका पाने के कारण लाओस को अपने देश की पावर ग्रिड को चीन की सरकारी कंपनी को देना पड़ा है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि चीन की सरकार और उसकी कंपनियों ने 150 से ज्यादा देशों को 1.5 ट्रिलियन डॉलर यानी 112 लाख 50 हजार करोड़ रुपये का कर्ज दे रखा है। चीन अपने पड़ोसी देश लाओस में 6 बिलियन डॉलर की लागत से हाईस्पीड रेल कॉरिडोर का निर्माण कर रहा है। इस ट्रैक पर पहली ट्रेन 2 दिसंबर, 2021 को लाओ राष्ट्रीय दिवस पर राजधानी वियनतियाने आएगी।

चीन ने इस देश को बड़े पैमाने पर कर्ज दिए, लेकिन जब वहां की सरकार से उसके रिश्ते खराब हो गए तो वह अब कर्ज को चुकाने के लिए दबाव बना रहा है। इसकी वजह से सालाना बकाया कर्ज भुगतान की तुलना में लाओस का विदेशी मुद्रा भंडार 1 बिलियन डॉलर से भी नीचे जा पहुंचा है। लाओस के सामने अब लोन डिफॉल्टर होने का खतरा मडरा रहा है। रिपोर्ट के मुताबिक, लाओस ने अपने सबसे बड़े कर्जदाता चीन से कुछ और समयसीमा मांगी थी।

लाओस सरकार ने चीन को कर्ज के बदले में नेशनल इलेक्ट्रिक पावर ग्रिड का बड़ा हिस्सा चीन की सरकारी कंपनी चाइना साउथर्न पॉवर ग्रिड कंपनी को देने वाली है। इससे चीन का कर्ज चुकाने के लिए लाओस को कुछ समय मिलेगा। लाओस के ऊर्जा मंत्री खम्मानी इंथिरथ का कहना है कि चीनी कंपनी को सरकारी पावर कंपनी बेचना हमारे लिए एक शर्म की बात है.

Share this:

Leave a Comment