विरोध के बावजूद सरकार क्यों करा रही है neet jee की परीक्षा, ये हैं वजह

नीट और जेईई के आयोजन को लेकर विरोध बढ़ता जा रहा है. कोरोना महामारी के दौर में इन परीक्षाओं को टालने की मांग की जा रही है. छात्रों अभिभावकों के साथ अब तमाम विपक्षी दल भी इन परीक्षाओं को लेकर विरोध में उतर आए हैं. नीट की परीक्षा 13 सितंबर, और जेईई एक से छह सितंबर के बीच आयोजित होनी है. भारी विरोध के बावजूद केंद्र सरकार तय समय पर ही परीक्षा कराने पर अड़ी हुई है.

हालांकि इसके पीछे भी अहम वजह हैं. नेशनल टेस्टिंग एजेंसी यानी एनटीए की मानें तो जेईई और नीट जैसी प्रतियोगिता परीक्षाओं को कराया जाना अनिवार्य है. क्योंकि इस परीक्षा को दिए बिना छात्रों को दाखिला नहीं मिल सकता है. सरकार की ओर से इन परीक्षाओं को कराने के पीछे की वजह यह भी मानी जा रही है कि मेडिकल और

इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा जेईई और नीट में यदि और देरी हुई तो छात्रों का भविष्य प्रभावित होगा. हर साल की तरह इस साल भी लाखों छात्रों ने अपनी कक्षा 12 की परीक्षाएं दी हैं और अब प्रवेश परीक्षाओं का बेसब्री से इंतज़ार कर रहे हैं. इसे मे NTA बिना किसी देरी के जल्द से जल्द exam कराना चाहता है.

Share this:

Leave a Comment