लाल किले की हिंसा से राष्ट्रपति कोविंद दुखी, कहा- तिरंगे और गणतंत्र दिवस का अपमान दुर्भाग्यपूर्ण

संसद भवन में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के अभिभाषण के साथ बजट सत्र की शुरुआत हुई. इस दौरान राष्ट्रपति ने कृषि कानूनों को लेकर किसानों द्वारा किए जा रहे विरोध-प्रदर्शन का भी जिक्र किया. उन्होंने 26 जनवरी पर गणतंत्र दिवस के मौके पर दिल्ली में किसान ट्रैक्टर मार्च के दौरान हुई हिंसा को दुखद बताया.

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अपने अभिभाषण में गणतंत्र दिवस पर राजधानी दिल्ली में हुई हिंसा की निंदा करते हुए कहा कि, पिछले दिनों गणतंत्र दिवस जैसे पवित्र दिन और राष्ट्रीय ध्वज तिरंगे का अपमान किया गया. यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है. जो संविधान हमें अभिव्यक्ति की आजादी का अधिकार देता है, वही संविधान हमें सिखाता है कि कानून और नियम का भी उतनी ही गंभीरता से पालन करना चाहिए.

इसके साथ ही राष्ट्रपति ने सरकार के तीन नए कृषि कानूनों को किसानों के हित में बताया. इन कृषि सुधारों का लाभ भी 10 करोड़ से अधिक छोटे किसानों को मिलना शुरू हो गया है. इससे पहले भी अनेक राजनीतिक दलों ने समय-समय पर इन कानूनों को अपना भरपूर समर्थन दिया था.”

Share this:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *