भारत ने सीमा पर बनाई अनोखी सड़क, यहां से किया हमला तो चीन में लग जाएंगे लाशों के ढेर

कहते हैं कि आवश्यकता ही अविष्कार की जननी है। ये कहावत भारत के उपर बिल्कुल फिट बैठती है। भारत को जब जिस तरह की आवश्यकता पड़ती है। उसके हिसाब से उसे पूरा में जुट जाता है।

दोस्तों इसी कड़ी में भारत ने एक ऐसी सड़क बनाई है जिसे दुनिया की सबसे ऊंची मोटरेबल रोड कहा जा रहा है। कहने का मतलब ये है कि यह दुनिया की सबसे ऊंची सड़क है जहां पर आप अपनी गाड़ी तक को लेकर पहुंच सकते हैं।

लेकिन जो चीज इस इस सड़क खास बनाती है वो ये है कि भारत इस जगह से चीन की हर हरकतों पर नजर बनाये सकता है। इतना ही नहीं इस सड़क की मदद से बॉर्डर पर तैनात हमारे जवानों को राशन पानी और दूसरे जरूरी सामान कम समय के अंदर पहुंचाए जा सकेंगे।

तो आइए हम आपको बताते हैं इस सड़क की विशेषताओं और इसके लोकेशन के बारे में।

बता दे पौराणिक मान्यताओं के अनुसार कहा जाता हैं कि पांडव यहां से स्वर्ग की ओर गए थे.

दरअसल इस सड़क को माणा पास रोड के नाम से जाना जाता है। ये सड़क उत्तरखांड के चमोली-गढ़वाल जिले में चीन बॉर्डर के करीब 18,192 फीट की ऊंचाई पर बनाई गई है। बता दे इस दर्रे से ही मानसरोवर और कैलाश पर्वत जाने का मुख्य रास्ता भी है। इस रोड के बन जाने से चीन सीमा की तरफ भारत अब ताकतवर स्थिति में आ गया है।

जानकार बताते हैं कि यहां पर सड़क बनना बेहद ही मुश्किल था लेकिन बॉर्डर रोड ऑर्गेनाइजेशन के समझदार इंजीनियरस और मेहनती मजदूरो ने इसे मुमकिन कर दिखाया।

पहले हेलीकॉप्टर से भारी रॉक कटिंग मशीनें और अन्य उपरकरणों को ऊपर दर्रे में पहुंचाया गया। ये रोड दुनिया की इकलौती सबसे ऊंची मोटरेबल सड़क है जिसका निर्माण ऊपर से नीचे की तरफ किया गया है। अमूमन पहाड़ों पर सड़क का निर्माण नीचे से ऊपर की ओर किया जाता है।

Share this:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *