भारत ने रूस को दिया सन्देश, चीन-पाकिस्तान की सेना के साथ रूस में नहीं करेंगे युद्धाभ्यास

भारत ने अगले महीने से रूस में शुरू होने वाले युद्धाभ्यास में अपनी सेनाओं की टुकड़ी भेजने से मना कर दिया है. भारत ने स्पष्ट करते हुए कहा कि हम पाकिस्तान और चीन की सेना युद्धाभ्यास में हिस्सा नहीं लेंगे. इनकी सेनाओं के साथ बॉर्डर पर हमारा तनाव चल रहा है.

ऐसे में इनके साथ युद्धाभ्यास करने का सवाल ही नहीं उठता है. दक्षिणी रूस के अस्त्राखन इलाके में 15 सितंबर से 26 सितंबर तक चलने वाले इस मेगा वॉर गेम में भारत से आर्मी के करीब 150, एयर फोर्स के 45 और नेवी के कुछ अधिकारी हिस्सा लेने वाले थे.

ऐसे में इनके साथ युद्धाभ्यास करने का सवाल ही नहीं उठता है. दक्षिणी रूस के अस्त्राखन इलाके में 15 सितंबर से 26 सितंबर तक चलने वाले इस मेगा वॉर गेम में भारत से आर्मी के करीब 150, एयर फोर्स के 45 और नेवी के कुछ अधिकारी हिस्सा लेने वाले थे.

हाल ही में एक हाई लेवल बैठक हुई थी. इस बैठक में विदेश मंत्री एस जयशंकर, चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत और अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे. इस दौरान यह तय किया गया है कि युद्धाभ्यास के लिए रूस द्वारा भेजा गया निमंत्रण स्वीकार नहीं किया जाएगा.

सूत्र के मुताबिक पहले वहां जाने की तैयारी चल रही थी. लेकिन मौजूदा हालात को देखते हुए यह तय किया गया है कि चीन के साथ अब काम नहीं किया जा सकता है. वही रूस ने कहा है की भारत को चीन के साथ दुश्मनी भुलाकर रूस में हो रहे इस युद्धाभ्यास में जरुस हिस्सा लेना चाहिए.

Share this:

Leave a Comment