बॉर्डर पर हुए 300 से ज्यादा किसान बीमार लेकिन कोरोना जांच से किया साफ़ इनकार

 सिंघु बॉर्डर पर डटे 300 से ज्यादा किसानों को बुखार, जुकाम और खांसी है, जो साफ साफ कोरोना के लक्षणों को दर्शाता है लेकिन उन्होंने कोरोना जांच कराने से साफ इनकार कर दिया है। उनका कहना है कि इसके पीछे उन्हें यहां से हटाने की साजिश भी हो सकती है।

हालांकि, दिल्ली सरकार की ओर से किसानों के लिए स्वास्थ्य के साथ तमाम सुविधा उपलब्ध कराई गई हैं। नए कृषि कानून के विरोध में किसान दसवें दिन भी सिंघु बॉर्डर पर डटे रहे।

लगातार बिगड़ती तबीयत के बीच किसानों को बार-बार कोरोना टेस्ट करवाने के लिए कहा जा रहा है हालांकि किसान जांच कराने से साफ मना कर रहे हैं क्युकी किसानों को लगता हैं की ये सरकार की उन्हें बॉर्डर से हटाने की चाल हैं..

Share this:

Leave a Comment