नेपाल को भारत से दुश्मनी पड़ेगी बहुत महंगी, भारत ने मना किया तो होगा दस अरब का नुकसान

भारत और नेपाल के बीच तनाव के माहौल को देखते हुए नेपाल इंडिपेंडेंट पावर प्रोड्यूसर्स एसोसिएशन के वाइस प्रेसिडेंट आशीष गर्ग ने चिंता जाहिर करते हुए नेपाल सरकार को अगाह किया है कि आने वाले दिनों में नेपाल यदि भारत को अपनी बिजली नहीं बेच पाता है तो नेपाल को करीब दस अरब का बड़ा आर्थिक नुकसान सहना पड़ सकता है।

गर्ग ने दो दिन पहले साफ कहा कि नेपाल की वर्तमान बिजली उत्पादन क्षमता एक हजार तीन सौ साठ मेगावाट है। जिसके आगामी तीन वर्षों में बढ़कर 6 हजार मेगावाट हो जाने की संभावना है। उस स्थिति में, अगर बिजली नहीं बेची जाती है तो 4,000 मेगावाट बिजली बर्बाद हो जाएगी।

नेपाल के बिजली का मुख्य बाजार भारत है। अगर सरकार पहल करती है तो बिजली व्यापार के लिए अभी भी अवसर है। उन्होंने कहा कि नेपाल की बिजली बेचने के लिए भारत मुख्य बाजार है।

उन्होंने कहा कि भले ही चीन के साथ बिजली लाइन की निर्माण प्रक्रिया आगे बढ़ रही है लेकिन हमें अभी चीन पर भरोसा नहीं करना चाहिए. वही नेपाल को बांग्लादेश और म्यांमार जैसे देशों को बिजली बेचने के लिए भी भारत की मंजूरी की आवश्यकता होगी। बता दे की नेपाल ने भारत सरकार के पास बिजली बेचने के लिए हाल ही में एक प्रपोजल भेजा है

Share this:

Leave a Comment