दिवाली पे पटाखों पर रोक के बावजूद दिल्ली में देर रात तक चले पटाखे, उसके बाद हवा हुई जहरीली, लोगों का साँस लेना हुआ मुस्किल

 प्रतिबंध के बावजूद दीवाली पर दिल्ली-एनसीआर में लोगों ने खूब पटाखे चलाए. इसकी वजह से दिल्ली-एनसीआर में वायु गुणवत्ता काफी गिर गई है. पीएम 2.5 का औसत स्तर 450 से ऊपर चला गया है. इससे दिल्ली और आसपास के इलाकों में कई जगहों पर प्रदूषण का स्तर गंभीर श्रेणी में चला गया है. जिससे अब लोगों का साँस लेना और खासकर बुर्जुगो का साँस लेना मुश्किल हो गया हैं

 इस प्रदूषण की वजह से दीवाली की अगली सुबह भी दिल्ली में धुंध छाई रही और आधा किलोमिटर तक कुछ भी साफ दिखाई नहीं दे रहा था इसके अलावा पड़ोसी राज्यों में पराली जलाने की वजह से भी दिल्ली में प्रदूषण का स्तर बढ़ गया है. पराली का योगदान 32 फीसदी रहा है. इसके साथ ही हवा की गति मंद होने के कारण स्थिति ज्यादा खराब रही है क्योंकि ऐसी स्थिति में प्रदूषण कण जमा हो जाते हैं. आपको बता दें दिल्ली में पटाखे जलाने के केस में कई लोगों को गिरफ्तार भी किया गया

 हालांकि इसे लेकर उतनी ज्यादा सकती नहीं दिखाई दी और हर तरफ पटाखों की गूंज सुनाई दे रही थी इससे यह साफ हो जाता है कि दिल्ली में लोगों को प्रतिबंध से या वायु की गुणवत्ता से कोई मतलब नहीं है,उन्हें तो बस मतलब हैं देश के साथ गद्दारी करके पटाखे जलाने से ताकि देश मे लोगों का साँस लेना भी मुश्किल हो जाए और दोस्तों बाद में यही लोग सरकार को पूछते हैं कि सरकार ने कुछ काम या विकास नहीं किया।

Share this:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *