दिवाली के बाद दिल्ली में फूटा प्रदूषण बम, जानें देश के अन्य शहरों में क्या है पलूशन का हाल

राजधानी दिल्ली में मनाही के बावजूद भी लोग पटाखे जलाते नजर आए। जिसके बाद दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण गंभीर स्तर पर पहुंच गया। पटाखों के चलते दिल्ली में आबोहवा और ज्यादा खराब हो गई। यह हाल तब है जब दिल्ली में 30 नवंबर तक दिल्ली में पटाखों की खरीदारी और जलाने पर बैन लगा रखा है।

दिल्ली सरकार व एनजीटी द्वारा पटाखों के फोड़ने पर लगाया गया प्रतिबंध दीपावली पर यमुनापार में धुआं-धुआं हो गया। शाम से शुरू हुई आतिशबाजी रात तक जारी रही। यमुनापार में ऐसा कोई इलाका नहीं बचा जहां आतिशबाजी न हुई हो। आसमान में प्रदूषण छाया रहा। पुलिस और प्रशासन की नाक के नीचे लोगों ने जमकर आतिशबाजी की। 

सड़क से लेकर पार्क व घरों की छतों पर जमकर पटाखे फोड़े गए। बहुत से लोगों ने सिर्फ यह सोचकर पटाखे फोड़े की सिर्फ दीवाली पर ही प्रतिबंध क्यों लगाया जाता है। जिस तरह से दीवाली पर आतिशबाजी हुई उससे जग जाहिर है कि प्रशासन प्रतिबंध लगाने में नाकाम साबित हुआ और दीवाली से पहले चोरी छिपे जमकर पटाखों की बिक्री हुई।

प्रदूषण से लोगों को सांस लेने में काफी समस्या हो रही है। सबसे ज्यादा परेशानी कोरोना संक्रमितों को उठानी पड़ी। धुएं से बचने के लिए बहुत से लोगों ने शाम से अपने घर के दरवाजे व खिड़कियां बंद कर ली थी।

Share this:

Leave a Comment