तुर्की के राष्ट्रपति ने अपने देश से UAE राजदूत को निकाला, ख़त्म किये UAE से सम्बंध

यूएई के इस इजराइल के साथ हालिया सौदे के जवाब में राष्ट्रपति तय्यब एर्दोआन ने आज कहा की, तुर्की ने संयुक्त अरब अमीरात के साथ अपने सभी राजनयिक संबंधों को निलंबित कर दिया है।.एर्दोआन ने संवाददाताओं से कहा कि इस इसराइल के साथ संयुक्त अरब अमीरात का विवादास्पद समझौता मुसलमानों से साथ धोखा है और तुर्की फिलिस्तीनी लोगों के साथ एकजुटता में खड़ा है।

एर्दोगान ने आगे कहा कि, “मैंने अपने विदेश मंत्री को आवश्यक निर्देश दिए हैं। हम या तो राजनयिक संबंधों को निलंबित कर सकते हैं या अपने राजदूत को वापस बुला सकते हैं क्योंकि हम फिलिस्तीनी लोगों के साथ खड़े हैं और हमेशा समर्थन का वादा करते है। राष्ट्रपति ने यह कहकर जारी रखा कि सऊदी अरब भी इस क्षेत्र में गलत कदम उठा रहा है, क्योंकि उन्होंने इस इजराइल और ग्रीस के साथ सहयोग करने के लिए मिस्र की आलोचना की थी।

वही इजराइल के प्रधान मंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने कहा कि वह संयुक्त अरब अमीरात के साथ एक सामान्य समझौते के बावजूद इजराइल फिलिस्तीनी के कुछ हिस्सों के लिए “अभी भी प्रतिबद्ध” है। यूएई तीसरा मुस्लिम देश होगा जो 1979 में मिस्र और 1994 में जॉर्डन के बाद इस इजराइल के साथ शांति समझौते पर हस्ताक्षर करेगा।

इससे पहले शुक्रवार को, तुर्की के राष्ट्रपति ने “फिलिस्तीनी के कारण” इजराइल की निंदा की और सेन्ये कारयेवाही की धमकी तक दी। बता दे की तुर्की के राष्ट्रपति ने कश्मीर से धरा ३70 और CAA कानून का भी विरोध किया था.

Share this:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *