जांच टीम ने China और WHO को घेरा; रिपोर्ट में कहा- 'तेजी से कदम उठाते तो नियंत्रित हो सकता था वायरस

चीन और WHO यदि चाहते, तो कोरोना वायरस को समय पर नियंत्रित किया जा सकता था. यह कहना है इंडिपेंडेंट पैनल फॉर पैन्डेमिक का. अपनी दूसरी रिपोर्ट में IPPR ने कहा है कि कोरोना को फैलने से रोकने के लिए शुरुआत में कुछ कदम उठाए जा सकते थे.

जांच टीम के मुताबिक, आउटब्रेक को बड़े पैमाने पर छिपाया गया, जिसकी वजह से वायरस ने पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले लिया.
इस रिपोर्ट से साफ हो जाता है कि दुनिया को कोरोना महामारी में धकेलने के लिए अकेले चीन (China) ही दोषी नहीं है, WHO ने भी उसमें अप्रत्यक्ष रूप से भागीदारी निभाई है.

जांचकर्ताओं का कहना है कि महामारी को छिपाने के कारण यह दुनियाभर में फैली. शुरुआती मामलों की स्टडी से संकेत मिलते हैं कि इसे रोकने के लिए पहले कदम उठाए जा सकते थे.

Share this:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *