चीन हुआ अकेला, अब मांग रहा इन देशों से मदद, जिनपिंग ने खुद किये सबको फोन

भारत और चीन के बीच एलएसी को लेकर जारी विवाद में जिनपिंग सरकार और चीन खुद फंसता जा रहा है। जब से चीन ने लद्दाख में भारतीय सीमा के पास घुसपैठ करने और क्षेत्रों पर कब्जा जमाने के मंसूबों के तहत साजिश करनी शुरू की, तब से वह भारतीय सैनिकों से लगातार हार रहा है।

वहीं अंतराष्ट्रीय मंच पर भी अलग थलग हो गया। भारत के अलावा अमेरिका, ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया और जापान जैसे देश चीन के खिलाफ खड़े हैं। ऐसे में अब चीन की मुश्किलें बढ़ गयी हैं। अपनी आने वाली हालत का अंदाजा लगाते हुए, चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने सोमवार को खुद जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल से फोन पर बातचीत की। इसके अलावा यूरोपीय यूनियन के कई नेताओं के साथ भी जिनपिंग ने फोन पर बातचीत कर अपना पक्ष रखा है।

कहा जा रहा है कि बातचीत काफी सार्थक रही है। चीन और यूरोपीय यूनियन के बीच व्यापार, निवेश समझौते पर चर्चा की गति तेज करने पर सहमति बनी है। चीन के राष्ट्रपति को धीरे-धीरे चीन का आने वाला भविष्य दिखाई दे रहा है और इसीलिए वह अलग-अलग देशों से अपनी दोस्ती बढ़ाने की कोशिश में लगा है। लेकिन सब चीन की हरकतों को जानते हैं और यह दोस्ती कब तक टिकेगी यह तो भगवान ही जाने।

Share this:

Leave a Comment