भारत में हुई कड़ी चेतवानी जारी फिर हो सकता हैं टिड्डी दल का हमला

पिछले दिनों भारत में टिड्डियों के हमले को लेकर खुशी मनाने वाले चीन को अब टिड्डियों ने ही सबक सीखा दिया है। क्योंकि अब चीन में टिड्डीयों ने वहां की फसलों को जबरदस्त नुकसान पहुंचाया है। जिसके बाद चीन अब बेहाल हो गया है। फिलहाल माना जा रहा है कि चीन की अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंच सकता है।

क्योंकि चीन के दक्षिणी हिस्सों में टिड्डियों ने हमला कर दिया हैऔर इसके कारण फसलों के चौपट होने की आशंका है। भारत समेत कई देशों में हमले के बाद टिड्डी दल चीन पहुंच गया है और फसलों को बर्बाद करने में जुट गया है। वहीं पहले से ही ट्रेड वॉर और कोरोना वायरस के कारण आर्थिक तौर पर झटका झेल रहे चीन के लिए ये बड़ा झटका माना जा रहा है।

चीन के मीडिया के मुताबिक चीन में टिड्डियों ने सबसे बड़ा हमला किया है। हालांकि टि्डी पहले ही चीन में हमला कर चुके हैं। जून के अंत में भी चीन में घुसे टिड्डियों ने जमकर कहर बरपाया और अब सितम्बर की शुरुआत के दिनों में टिड्डियों का प्रसार दोगुना हो चुका है। फिलहाल चीन की सरकार ने टिड्डियों को रोकने के लिए कीट नियंत्रण करने वाले कर्मचारियों को गांवों और जंगलों में भेजा था।

वहीं बताया जा रहा है कि लाओस से बड़ी संख्या में टिड्डी घुसे हैं जो जंगलों और खेतों में फैल गए हैं।

इससे चीन में कृषि उत्पादन पर बड़ा संकट पैदा हो सकता है। वहीं चीन में पहले ही सूखा और देश के कई हिस्सों में भारी वर्षा-बाढ़ के कारण कृषि पर असर पड़ा है।

इसके साथ ही कहा जा रहा है कि चीन में कृषि उत्पादन में कमी आने के बाद चीन सरकार चिंतित है और उसे लगा रहा है कि देश की जरूरतों को पूरा करने के लिए कृषि उत्पादों का आयात करना पड़ेगा। असल में पिछले दिनों भारत में चीनी सामानों के बहिष्कार की मुहिम सके दौरान परेशान चीन मन्नतें कर रहा था कि टिड्डी दल कृषि को नुकसान पहुंचाए और उसके खिलाफ ट्रेड वॉर ना कर सके।

वही अब चीन के राष्ट्रपति ने खुद आकर कहा है की लोग एक टाइम का खाना कम खाए और हो सके तो ना ही खाए. वही भारत के खिलाफ चीन की सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी के मुखपत्र माने जाने वाले ग्लोबल टाइम्स ने कहा था कि टिड्डी दल के हमले के बाद भारत चीन से युद नहीं कर पाएगा। उसका कहना था कि इसके कारण भारत के सैनिक भूखे मर जायेगे।

Share this:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *