गलवान घाटी में शहीद हुए सैनिकों को वीरता पुरस्कार दिए जाने से बौखला उठा चीन, जानिए ड्रैगन की बेचैनी की असली वजह

पिछले साल जून में गलवान घाटी में दुस्साहस करने वाले कई चीनी सैनिक भारतीय वीरों के साथ संघर्ष में मारे गए, लेकिन ड्रैगन ने उनका सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार तक नहीं किया। ऐसे में चीन भारत में सैनिकों को मिलने वाले सम्मान को पचा नहीं पाता है।

गणतंत्र दिवस पर गलवान घाटी के शहीदों को दिए गए वीरता पुरस्कारों से चीन चिढ़ गया है और उसने इसे तनाव बढ़ाने वाला कदम बता दिया है। चीन सरकार के मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स ने गलवान घाटी में शहीद हुए 16 बिहार रेजिमेंट के कमांडिंग ऑफिसर कर्नल संतोष बाबू को दूसरा सबसे बड़ा सैन्य सम्मान महावीर चक्र दिए जाने पर अपनी भड़ास निकाली है।

ग्लोबल टाइम्स ने लिखा है कि नौवें राउंड की बातचीत में कुछ सकारात्मकता दिखी थी और चीन लगातार चीजों को शांत करने को लेकर गुडविल संदेश भेज रहा है, लेकिन भारत के उकसावे वाले कदमों से दुनिया और हमारे लोगों को संदेश जाएगा कि भारत सीमा विवाद का समाधान नहीं चाहता। वह सीमा पर शांति और स्थिरता नहीं चाहता है।

Share this:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *