कोर्ट का बड़ा आदेश - कोई भी राज्य कोरोना मरीजों के घरों के बाहर पोस्टर ना लगाएं

जैसा कि आप जानते होंगे यदि कोई भी व्यक्ति कोरोना से पीड़ित होता है तो उसके घर के बाहर एक पोस्टर लगाया जाता है जिसमें उस व्यक्ति का नाम साथ यह लिखा की इस घर में कोरोना का मरीज़ हैं यह जानकारी लिखी होती है। ऐसे में इस मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने एक नया आदेश जारी किया है।

 कोरोना मरीजों के घर के बाहर पोस्टर लगाए जाने के खिलाफ दाखिल याचिका पर सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने टिप्पणी करते हुए कहा कि ऐसे मरीजों के घर के बाहर पोस्टर लगाए जाने से गलत अवधारणा बन रही है। ऐसे लोगों के घर के बाहर जब पोस्टर चिपका दिया जाता है तो दूसरे लोग ऐसे लोगों के अछूत की तरह व्यवहार करते हैं।

हालांकि सुप्रीम कोर्ट के इस बयान के जवाब में केंद्र सरकार की ओर से सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि जहां पोस्टर लगाया जा है वह लांछन लगाने के लिए या ऐसे इरादे से नहीं किया जाता होगा, बल्कि ऐहतियात के तौर पर पोस्टर लगाया जाता हो। घरों के बाहर पोस्टर लगाना या नहीं लगाना इसकी सुनवाई आगे के लिए स्थगित कर दी गई है। दोस्तों आपको क्या लगता हैं सर्कार का फैसला सही हैं या नहीं।

Share this:

Leave a Comment