कोमा में जाने लगा किसान संगठनों का कृषि कानून विरोधी आंदोलन

कोरोना संक्रमण को लेकर भी उनके अलग-अलग बयान आ रहे हैं। इनमें से हरियाणा के कुछ जिलों में प्रभाव रखने वाली भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष गुरनाम सिंह चढूनी ने कहा ‘कोरोना जैसी कोई बीमारी नहीं है। यह तो एक बहुत बड़ा घोटाला है, जो सरकार कर रही है.

लोगों का हार्मोन परिवर्तित करने के लिए। जो भी व्यक्ति कोरोना से बचाव के लिए वैक्सीन लेगा, उसके हार्मोन बदल जाएंगे। दूसरी ओर राकेश टिकैत सरकार से यह आग्रह कर चुके थे कि धरनास्थलों पर आंदोलनकारियों को वैक्सीन लगवाने की सरकार को व्यवस्था करनी चाहिए।

अभी स्थिति यह है कि टिकैत बंगाल ओर असम घूम रहे हैं। शिवकुमार शर्मा जी मध्य प्रदेश जा चुके हैं। जो बचे हैं, वे सड़कों पर पक्के निर्माण और बोरिंग कर सरकार से टकराव मोल लेना चाहते हैं। ताकि सरकार बलप्रयोग करे और वे अपने इरादों में कामयाब हो जाएं।

Share this:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *