बजट से नाखुश हुए किसान एक बार फिर शुरु कर आंदोलन -

 केंद्रीय वित्त निर्मला सीतारमण देश का आम बजट पेश किया है और सरकार ने कृषि क्षेत्र से जुड़े कई अहम ऐलान किए हैं। संयुक्त किसान मोर्चा ने इस बजट पर गुस्सा व्यक्त कर कहा है कि, बजट ने दिखाया कि अपने मंत्रालय के नाम में किसान कल्याण जोड़ने के जुमले के बावजूद सरकार को किसानों के कल्याण की कोई परवाह नहीं है।

 बजट के मद्देनजर एसकेएम ने एक बयान जारी कर अपनी राय रखते हुए कहा है कि, सरकार ने कुल बजट में कृषि और उससे जुड़े हुए गतिविधियों का हिस्सा पिछले साल के 4.3 फीसदी से घटाकर इस साल 3.8 फीसदी कर दिया। वहीं हम बजट की निंदा करते हैं और देश के किसानों से एक बार फिर कड़ा आंदोलन करने की अपील करते हैं।

Share this:

Leave a Comment