एक बार फिर दो टुकड़ों में बंटेगा पाकिस्‍तान, POK में चीन और इमरान खान कर दी है आखिरी गलती

जिनपिंग की दोस्ती में इमरान खान ने पाकिस्तान को बर्बाद कर दिया है। हालात यहां तक पहुंच चुके हैं कि मुल्क में सिविल वॉर छिड़ गया है। ड्रैगन से सौदा करने के बाद इमरान खान पीओके के लोगों के सपने कुचल रहा है। PoK में पाकिस्तानी हुकूमत के खिलाफ ऐलान-ए-जंग छिड़ गई है। वहीं बलूचिस्तान अब किसी भी हाल में पाकिस्तान के साथ नहीं रहना चाहता।

सिंध पर पाकिस्तान से अलग होने की कगार पर है, ऐसे में एक बार फिर पाकिस्तान का नक्शा आधा हो सकता है।

बांग्लादेश के अलग होने के बाद एक बार फिर पाकिस्तान बगावत की आग इमरान और आर्मी चीफ बाजवा के गले की फांस बन गई है। पीओके की सडको पर बोर्ड लग चुके है जिनमे लिखा है की हम हिंदुस्तान के साथ आना चाहते हैं.

बता दे PoK की राजधानी मुजफ्फराबाद को पाकिस्तान ने मानों बेच दिया है। सौदागर चीन ने इसे इस कदर कुचला है कि pok के लोगो पास खिलाफत के अलावा कोई दूसरा रास्ता नहीं बचा है।

संदेश साफ है कि अब पीओके चुप नहीं बैठने वाला, वो अरसे से उबल रहा है अब अपने लावे से इमरान और जिंनपिंग दोनों को जला देगा। खूबसूरत PoK में दो नदियां बहती हैं। नीलम और झेलम दोनों में यहां के लोगों की जान बसती है, क्योंकि दोनों की वजह से यहां की अर्थव्यवस्था चलती है और पीओके की इन्हीं नदियों में ड्रैगन ने डाका डाल दिया है।

चीन ने इन दोनों नदियों पर बड़े बांध बनाने का काम शुरू कर दिया है। डील के मुताबिक 2026 तक निर्माण का काम पूरा होना है। लेकिन उससे पहले ही पीओके में बगावत की आग भड़क चुकी है।

इस बांध का उद्घाटन पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने किया था, उस वक्त इमरान ने लोगों को बड़े बड़े सपने दिखाए थे। लेकिन इमरान के वादे भी चीन के सामान की तरह नकली निकले, जिससे आवाम में जबरदस्त गुस्सा है। पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में चीनी कंपनियों की परियोजनाओं को लेकर जबरदस्त नाराजगी है। वैसे ये हद ही PoK को रेल मार्ग और सड़क मार्ग का सपना दिखाते-दिखाते उनके छोटे-छोटे ख्वाब तक चीन ने लूट लिए, चीन जिन थालियों में खाता है उसी में छेद कर जाता है।

जब से पाकिस्तान चीन का गुलाम हुआ है, तब से पीओके में लोगों पर अत्याचर बढ़ गया है। PoK के लोगों से गैरों जैसा व्‍यवहार, सरकारी नौकरियों में भेदभाव, स्कूलों में इस्लाम के बारे में पढ़ाने का दबाव, आवाज उठाने वालों के उम्र कैद दे दी जाती है, जगह-जगह चलते हैं आतंकियों के ट्रेनिंग कैंप

साथ ही pok प्राकृतिक संसाधनों को जिनपिंग के हवाले कर रहा है, जिससे यहां की आवाम ये समझ में आ चुका है कि पाकिस्तान में रहकर उनके हक की रक्षा नहीं हो सकती है। इसलिए उन्होंने जिनपिंग और इमरान की जहरीली दोस्ती के खिलाफ ऐलान-ए-जंग छेड़ दी है।

Share this:

Leave a Comment