लद्दाख में भारत के जवाब के बाद चीन बोला- हमारी फौज उठा रही है जवाबी कदम

पड़ोसी देश चीन और उनके राष्ट्रपित शी जिनपिंग की विस्तारवादी नीति को पड़ोसी देश म्यांमार से तगड़ा झटका लगा है. अबतक चीन से नजदीकी बढ़ा रहे म्यांमार को अब उसकी चाल समझ आने लगी है. अब वह म्यांमार चीन के सभी कामो को धीरे-धीरे रोक रहा है. करीब 115 अरब डॉलर की यह परियोजना शी चिनपिंग के ड्रीम प्रोजेक्ट्स में से एक है.

खबरों के मुताबिक, म्यांमार ने कहा है कि चीन भरोसे के लायक नहीं है. यह सीख उसे पाकिस्तान जैसे देशों का हाल देखकर मिली है, जिन्हें चीन कर्ज के जाल में फंसा रहा है. म्यांमार सरकार के मुताबिक इस प्रोजेक्ट का फायदा चीन को हो रहा है म्यांमार के लोगों को नहीं.

चीन म्यांमार आर्थिक गलियारा यानि CMEC करीब 17 हजार किलोमीटर लंबा बनाया जाना है. इसमें चीन 38 प्रोजेक्ट लगाना चाहता था. लेकिन दूसरे देशों से सीख लेते हुए म्यांमार ने अबतक सिर्फ 9 को ही मंजूरी दी थी. लेकिन अब इनका काम भी अब रोका जा चूका है.

इसमें किसी प्रोजेक्ट की जांच को कमीशन बैठा दिया गया है, किसी की लागत कम कर दी गई है और किसी में भारत को बुलाकर चीन का एकाधिकार खत्म कर दिया गया है.

वहीं पहले म्यांमार सिर्फ चीन से हथियार खरीदता था. लेकिन अब उसकी आर्मी रूस, भारत, इजरायल, समेत बाकी देशों से भी सौदे कर रही है. म्यांमार भारत से भी हथियार खरीदना चाहता है लेकिन सरकार ने अभी इसकी मजूरी नहीं दी है.

Share this:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *