अब बिना शादी के साथ रह सकते हैं बॉयफ्रेंड और गर्लफ्रेंड हाई कोर्ट का बड़ा फैसला

 इलाहाबाद हाईकोर्ट ने लिव इन रिलेशन में रह रहे जोड़े को राहत देते हुए कहा है लिव इन रिलेशनशिप को देश में वैधानिक मान्यता प्राप्त है। इसलिए किसी भी व्यक्ति को चाहे वह अभिभावक ही क्यों न हो, दो वयस्क लोगों के बिना शादी किए शांतिपूर्वक साथ जीवन व्यतीत करने में हस्तक्षेप का अधिकार नहीं है।

कोर्ट ने कहा कि यह व्यक्ति का मौलिक अधिकार है, जो उसे संविधान के अनुच्छेद 21 के तहत जीवन और स्वतंत्रता के अधिकार के तहत प्राप्त है। कोर्ट के मुताबिक यदि दो व्यस्त यानी के 18 साल के ऊपर की उम्र के कपल बिना शादी के साथ में रहते हैं तो यह करना किसी भी रुप से अवैधानिक नहीं है। कोई भी व्यक्ति उनकी निजी जिंदगी में हस्तक्षेप करने का अधिकार नहीं रखता।

Share this:

Leave a Comment