अक्साई चिन के हिस्से में कब्जे के साथ ही सेना ने उखाड़ दिए चीनी कैमरे और सारे सर्विलांस सिस्टम

भारतीय सेना ने लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल यानि LAC पर चीनी साजिश को नाकाम करने के साथ ही अक्साई चिन की टॉप पोस्ट पर कब्जा कर लिया है जिसपर 1962 से ही चाइना का कब्ज़ा था. 29-30 अगस्त की रात को चीनी सेना ने घुसपैठ की कोशिश की, जिसका जवाब देते हुए भारतीय सेना ने कुछ दिन बाद सिर्फ न अक्साई चिन की पोस्ट पर कब्जा जमाया, बल्कि चीनी सेना के कैमरे और सर्विलांस उपकरणों को हटा दिया है.

सूत्रों के मुताबिक एक जगह पर कैमरा और सर्विलांस सिस्टम के लगे होने के बाद भी भारतीय सेना ने चीनी सेना को पीछे खदेड़ा और रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण इस पोस्ट पर कब्जा कर लिया है. दरसल चीन ने अपने सीमा निगरानी तंत्र को स्वचालित बनाया है और भारतीय सैनिकों की आवाजाही पर नजर रखने के लिए ये कैमरे और सेंसर लगाये थे.

इससे चीनी सेना, भारतीय सेना की आवाजाही पर कड़ी नजर रखती थी. ऊंचाई पर कब्जा करने के चीनी इरादे को भांपते हुए पिछले हफ्ते ही भारतीय सेना के एक विशेष ऑपरेशन यूनिट और सिख लाइट इन्फैंट्री के कर्मियों समेत एंटी-टैंक गाइडेड मिसाइलों को पहाड़ की ऊंचाई पर तैनात किया गया है.

ये यूनिट चीनियों द्वारा किसी भी हरकत का जवाब देने में सक्षम है. लद्दाख में दोनों देशों के बीच ताजा झड़प पैंगोंग झील के दक्षिणी किनारे पर स्थित एक चोटी को लेकर हुई. यह चोटी एलएसी के इस तरफ यानी भारतीय सीमा में है, लेकिन उसपर किसी 1962 से ही चीन का कब्जा हुआ करता था. चीन इस चोटी पर हथियार तैनात करने की फिराक में था, जिसे भारतीय जाबांजों ने नाकाम कर दिया.

Share this:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *